About Me

My photo
Greater Noida/ Sitapur, uttar pradesh, India
Editor "LAUHSTAMBH" Published form NCR.

हमारे मित्रगण

विजेट आपके ब्लॉग पर

Wednesday, October 19, 2011

( 111 ) इस बार दिवाली में

 दिए जलाए जाते हैं , हर बार दिवाली पर   /
 ईर्ष्या- द्वेष जलाएंगे , इस बार दिवाली पर  /

मिलकर बांटेंगे आपस में, प्यार दिवाली पर ,
ढह जायेगी , नफ़रत की दीवार दिवाली पर /

भीतर-बाहर, घर-आँगन में   उजियारा होगा ,
जब दीपक दमकेंगे ,हर घर- द्वार दिवाली पर /

घर-घर में लक्ष्मी-गणेश का, आराधन होगा ,
और सजेंगे हर घर ,  बंदनवार दिवाली पर /

महानिशा !  के  अंधकार  को ,  दूर भगायेंगे ,
खुशियों की फिर से होगी , बौछार दिवाली पर /

सोच रहा हूँ , शायद उस दिन तुम भी आओगे ,
अपनी भी होंगी , फिर आँखें चार दिवाली पर  /


29 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ... अंत भी भला हो :)

संजय भास्कर said...

बहुत सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति

दिगम्बर नासवा said...

आज अंदर का रावण भी भुला कर राम का सच्चे मन से स्वागत करें तो और भी मज़ा आ जायगा ... लाजवाब रचना है ...

Kailash C Sharma said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

नीरज गोस्वामी said...

काश ऐसा ही हो शुक्ल जी...बहुत सकारात्मक सोच...बधाई

नीरज

नीरज गोस्वामी said...

काश ऐसा ही हो शुक्ल जी...बहुत सकारात्मक सोच...बधाई

नीरज

Anita said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति ....दीपावली की अग्रिम शुभकामना....

रविकर said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
मेरी बधाई स्वीकार करें ||

प्रवीण पाण्डेय said...

तब आयेगा रंग, एक त्योहार दीवाली में।

virendra said...

sogh rahaa hoon us din shaayad ----

waah kyaa baat ==
ise bhee to padhen

ujaale kaa hogaa asar dheere = dheere

sateek abhivyakti badhaayee deerotsav

mangalmay ho

अनुपमा पाठक said...

ऐसा ही हो इस बार दिवाली पर!

NISHA MAHARANA said...

बहुत सुन्दर.

मनोज कुमार said...

दीपावली की शुभकामनाएं।

जयकृष्ण राय तुषार said...

भाई शुक्ल जी बहुत ही प्यारी सी गजल बधाई और शुभकामनायें

S.N SHUKLA said...

ADARANEEYA SANGITA JI,
Sanjay Bhaskar ji,
DIGAMBER NASWA JI,

आप मित्रों का स्नेह मिला, आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Kailash ji,
Neeraj Goswami ji,

आपके उत्साहवर्धन का ह्रदय से आभार, धन्यवाद.

S.N SHUKLA said...

Anita ji,
Ravikar ji,
Pravin pandey ji,

इस स्नेह की हमेशा अपेक्षा और प्रतीक्षा रहेगी .

S.N SHUKLA said...

Virendra ji,
Anupma pathak ji,
Nisha Maharana ji,
शुभकामनाओं का बहुत-बहुत आभार.

S.N SHUKLA said...

Manoj ji,
Jaikrishan Ray Tushar ji,

रचना की प्रशंसा के लिए धन्यवाद.

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय यस यन शुक्ल जी बहुत सुन्दर ..काश ऐसा हो जाता सारा द्वेष पाखण्ड भ्रष्टाचार हमारा जल जाता ..मन के दिए जल जाते ..अँधियारा सब भग जाता .
.दिए जलाए जाते हैं , हर बार दिवाली पर / ईर्ष्या- द्वेष जलाएंगे , इस बार दिवाली पर /
बधाई हो सुन्दर रचना
सोच रहा हूँ , शायद उस दिन तुम भी आओगे ,अपनी भी होंगी , फिर आँखें चार दिवाली पर /

भ्रमर ५

lokendra singh rajput said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

डॉ. जेन्नी शबनम said...

diwali par bahut sundar rachna, badhai sweekaaren.

अनामिका की सदायें ...... said...

apki ummedon ke sath ek hamara hath bhi juda hai.

sunder abhivyakti.

vandana said...

आशावादी सोच से परिपूर्ण रचना ...बहुत सुन्दर

mridula pradhan said...

bahot achcha likhe hain......

Babli said...

सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने !
आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

S.N SHUKLA said...

Surendra shukla ji,
Lokendra ji,
Jennee Shabanam ji,
आप मित्रों का आभारी हूँ सकारात्मक प्रतिक्रियाओं के लिए, धन्यवाद.

S.N SHUKLA said...

Anamika ji,
Vandana ji,
आप मित्रों की उदारतापूर्ण प्रतिक्रियाओं का बहुत- बहुत आभार.

S.N SHUKLA said...

Mridula ji,
Babali ji,


आपकी शुभकामनाएं मिलीं , आभारी हूँ.