About Me

My photo
Greater Noida/ Sitapur, uttar pradesh, India
Editor "LAUHSTAMBH" Published form NCR.

हमारे मित्रगण

विजेट आपके ब्लॉग पर

Monday, October 10, 2011

(107) चरित्र निर्माण प्रथम हो


तब  होगा  निर्माण राष्ट्र  का ,जब चरित्र  निर्माण प्रथम हो /
जाति- धर्म से ऊपर उठकर, प्रतिभा का सम्मान प्रथम हो /

आओ ! मातृभूमि की सेवा का , मिलकर संकल्प करें हम ,
अपनी भाषा- भूषा के प्रति , फिर आदर का भाव भरें हम ,
उत्कर्शों के शिखर चढ़ें पर, संस्कृति का उत्थान प्रथम हो /
तब होगा निर्माण राष्ट्र का ,जब  चरित्र  निर्माण  प्रथम हो  /

पराधीनता  के  बंधन से ,  मुक्त हुए  छह  दशक  हो गए ,
पर गाँधी, सुभाष के सपने , स्वार्थ सिन्धु के बीच खो गए ,
उन सपनों को सच करने का , घर- घर में अभियान प्रथम हो /
तब होगा  निर्माण  राष्ट्र  का, जब  चरित्र   निर्माण  प्रथम  हो /

लोकतंत्र  के  सोपानों  पर, वर्ग  -  वर्ण  जैसी सीमाएं ,
बाधाओं के अग्निकुंड में, अब भी जलती हैं प्रतिभाएं ,
आवाहन तब करें देश का, जन- जन का आह्वान प्रथम हो /
तब होगा निर्माण  राष्ट्र  का, जब चरित्र  निर्माण  प्रथम हो  /

स्वार्थ  साधना  में जनमानस ,  संवेदना  भुला  बैठा  है ,
निज प्रभुता के मद से गर्वित , मनुज स्वयम में ही ऐंठा है,
चढ़ें प्रगति सोपान स्वयम, पर औरों का भी ध्यान प्रथम हो /
तब होगा  निर्माण  राष्ट्र  का, जब चरित्र  निर्माण  प्रथम हो  /

19 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

सच में ऐसे ही निर्माण होगा देश।

ZEAL said...

चरित्र निर्माण ही प्रथम होना चाहिए।

रविकर said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
बधाई स्वीकार करें ||

Sunil Kumar said...

काश यह सब सच हो जाये , सन्देश देती हुई सुंदर रचना ,

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय शुक्ल जी क्या बात कही है सटीक सत्य हम तो आप की लेखनी के कायल हो गए हर पंक्ति लाजबाब ..काश लोग इस पर अमल करें ...
शुक्ल भ्रमर ५


तब होगा निर्माण राष्ट्र का ,जब चरित्र निर्माण प्रथम हो /जाति- धर्म से ऊपर उठकर, प्रतिभा का सम्मान प्रथम हो /

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

रविकर said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

हमारी बधाई स्वीकारें ||

http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/10/blog-post_10.html
http://neemnimbouri.blogspot.com/2011/10/blog-post_110.html

सदा said...

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

S.N SHUKLA said...

Pravin ji,
ZEAL JI,
Ravikar ji
मेरी कलम को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए धन्यवाद , आभार

S.N SHUKLA said...

Sunil kumar ji,
Surendra ji

आप मित्रों की सकारात्मक प्रतिक्रियाओं का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Roopchandra shastri ji
शास्त्री जी ,
रचना को चर्चामंच में स्थान प्रदान करने का बहुत-बहुत आभार .

S.N SHUKLA said...

Ravikar ji,
Sada ji

आप मित्रों का स्नेहाशीष मिला , आभारी हूँ

kanu..... said...

sach me charitra nirmaan sabse badi jarurat hai aaj ke samay me

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

तब होगा निर्माण राष्ट्र का ,जब चरित्र निर्माण प्रथम हो /
जाति- धर्म से ऊपर उठकर, प्रतिभा का सम्मान प्रथम हो /....behtarin behtarin behtarin...yah rachna nahi hai darshan hai..aapne wo har baat kahi hai jiske pratham hue bina sab kuch dhong hoga dikhawa hoga..rastriyat ki bhabna se otprot is rachna ko bhi pranam aaur iske rachayita ko bhi

रोली पाठक said...

जब चरित्र निर्माण प्रथम हो....
शुक्ला जी....बहुत ही सार्थक रचना | किसी भी राष्ट्र की उन्नति, प्रगति तभी संभव है, जब वहां के नागरिक चरित्रवान होंगे | सुन्दर लेखन के लिए बधाई..

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

बहत बढ़िया रचना | बधाई स्वीकारें |

musafir said...

सटीक और सार्थक प्रस्तुति के लिये बधाईयाँ.

S.N SHUKLA said...

Kanu ji,
Dr. Ashutosh ji,
Roli pathak ji
आप मित्रों का बहुत -बहुत आभार , यह स्नेह सदैव मिलता रहे , यही अपेक्षा है /

S.N SHUKLA said...

Pradeep Sahani ji,
Musafir ji


आपके ब्लॉग पर आगमन तथा सकारात्मक प्रतिक्रियाओं का आभारी हूँ , धन्यवाद