About Me

My photo
Greater Noida/ Sitapur, uttar pradesh, India
Editor "LAUHSTAMBH" Published form NCR.

हमारे मित्रगण

विजेट आपके ब्लॉग पर

Tuesday, January 17, 2012

(133) शल्य चिकित्सक की दरकार है /

देश की बिगड़ी जो कहानी है/
यह सियासत की मेहरबानी है /
लोग कहते हैं कि भ्रष्टाचार ही अभिशाप है,
किन्तु राजनीति तो उसका भी बाप है /
यहाँ बेतरह भाई - भतीजावाद है ,
परिवारवाद है, रिश्तेदारावाद है ,
और उससे भी बढ़कर -
राजनैतिक अवसरवाद है /
राजनेता !
तिकड़म के बीज बोते हैं ,
अलगाववाद की पौध उगाते -
और अवसरवाद की फसल काटते हैं /
वे प्रशासन से लेकर समाज तक -
अपने स्वार्थ साधने के लिए,
लोगों को फिरकों में बाटते हैं /
आम आदमी की भावनाओं से खेलते -
और एक दूसरे की गोद में बैठ -
तिकड़म की मलाई चाटते हैं/
रिश्वत इसी अवसरवाद की औलाद है ,
पत्नी बेवफाई है /
छल , प्रपंच, झूठ , मक्कारी जैसे भाई- भतीजे ,
और इसकी माँ खुद हरजाई है /
ढकोसलेबाजी और हेरा-फेरी ,
इस अवसरवाद की दादी- नानी है /
इसीलिये -
राजनीतिबाजों की आँखों का मर चुका पानी है /
यहाँ शाक- भाजी के भाव बिकता है ज़मीर /
घोर सैद्धांतिक विरोधियों की गठबंधन सरकारें ,
क्या इससे बड़ी हो सकती है-
अवसरवाद की दूसरी नजीर ?
ईमानदारी , नैतिकता और आदर्श ,
राजनीति के क्रीत दास हैं /
जो फटेहाल , चीथड़ों में -
इस देश के नंगे- भूखों के पास हैं /
आप राजनेताओं से -
भ्रष्टाचार से लड़ने की अपेक्षा करते हैं ?
अरे सिद्धांत और नैतिकता तो-
यहाँ पानी भरते हैं /
सड़ चुका है भ्रष्टाचार का घाव ,
और देश -
मरणासन्न सा बीमार है /
इसे वैद्य की दवा की नहीं-
किसी शल्य चिकित्सक की दरकार है /
जो सड़े अंग को -
बेरहमी से काट सके /
और लोकतंत्र पर छा चुके ,
काले बादलों को छाँट सके /
            - एस.एन.शुक्ल

29 comments:

vidya said...

waah!!
करारा व्यंग..
बेहतरीन.

Anita said...

लोग कहते हैं कि भ्रष्टाचार ही अभिशाप है,
किन्तु राजनीति तो उसका भी बाप है /
यहाँ बेतरह भाई - भतीजावाद है ,
परिवारवाद है, रिश्तेदारावाद है ,

आज के हालात का सही सही चित्रण... जाने कब राजनीति की रात खत्म होगी और सुबह आएगी...

SHASHI PANDEY said...

वाह क्या बात है...राजनीति की सच्ची तस्वीर दिखा दी आप ने इन शब्दों के माध्यम से. हमारे ब्लॉग पे आने के लिए धन्यवाद.

SHASHI PANDEY said...

वाह क्या बात है...राजनीति की सच्ची तस्वीर दिखा दी आप ने इन शब्दों के माध्यम से. हमारे ब्लॉग पे आने के लिए धन्यवाद.

प्रवीण पाण्डेय said...

मर्ज गहरा है, दर्द भी गहरा,
कल पर बढ़ता कर्ज भी गहरा..

Kailash Sharma said...

बहुत सटीक चित्रण...

shikha varshney said...

सामाजिक हालातों पर आपकी लेखनी बहुत सशक्त है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

वाह!
बहुत बढ़िया!
अपनी सुविधा से लिए, चर्चा के दो वार।
चर्चा मंच सजाउँगा, मंगल और बुधवार।।
घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!

कुश्वंश said...

सड़ चुका है भ्रष्टाचार का घाव ,
और देश -
मरणासन्न सा बीमार है /
इसे वैद्य की दवा की नहीं-
किसी शल्य चिकित्सक की दरकार है

ek dam saamyik aur sateek baat kahi hai aapne shukla ji. achee rachna achchaa pravaah badhai

अनामिका की सदायें ...... said...

sateek prastuti aaj k haalaton par.

प्रेम सरोवर said...

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति । मेरे पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

Naveen Mani Tripathi said...

भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक बहुत ही ओजपूर्ण रचना पढ़ने को मिली ......रचना में यथार्थ परिस्थितियों का दर्शन एवम समाधान पर चिंतन भी है ....निहसंदेह एक तीखा बिम्ब ....बधाई शुक्ल जी ....साथ ही आभार .

S.N SHUKLA said...

vidya ji,
Anita ji,
प्रशंसा के लिए बहुत - बहुत आभार,यही स्नेह बनाए रखियेगा.

S.N SHUKLA said...

Shashi pandey ji,

आपकी शुभकामनाओं का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Pravin pandey ji,
Kailash sharma ji,

आप मित्रों का स्नेह मिला , आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Shikha ji,
Dr. Roopchand Shastri ji,

आप शुभचिंतकों से इसी स्नेह की अपेक्षा हमेशा रही है, धन्यवाद.

S.N SHUKLA said...

Kushwansh ji,
Anamika ji,

प्रशंसा मिली , आभार, धन्यवाद.

S.N SHUKLA said...

prem ji,
Naveen ji,

आप ब्लॉग पर पधारे, स्नेह मिला, आभार

RITU said...

क्या बात !!!
kalamdaan.blogspot.com

जयकृष्ण राय तुषार said...

आदरणीय शुक्ल जी बहुत सुंदर व्यंग्य |

S.N SHUKLA said...

RITU JI,
JAIKRISHAN RAY TUSHAR JI,
आपकी उदारमना प्रतिक्रियाओं का आभारी हूँ.

Aditya said...

behtaraan vyangy sir..
haalat to jag jaahir hain in neta k..
neta kam abhineta zyaada hai..

Aditya said...

Behtareen kataakhs sir..
haal to jagjaahir hai in netaao ka..aur rajneeti hai..
parliament bollywood hai inka aur ye neta nahi abhineta hai..

संजय भास्कर said...

भ्रष्टाचार ही अभिशाप है बेहतरीन व्यंग

avanti singh said...

बेहतरीन व्यंग......

shashi purwar said...

namaskar hamare blog par aane ke liye abhar .

bahut sunder abhivyakti sarthak .sataye ka chitran . desh ke jo halat hai woh sudharne ke koi abhi aasar nahi najar aa rahe ........kab desh ka uday hoga .?.acchi post ke liye badhai .

S.N SHUKLA said...

Adity ji,
Sanjay Bhasker ji,
आपका स्नेह मिला, बहुत- बहुत आभार.

S.N SHUKLA said...

Avanti singh ji,

आपके ब्लॉग पर आगमन और समर्थन का कृतज्ञ हूँ.

S.N SHUKLA said...

Shashi purwar ji,

आपकी शुभकामनाओं के लिए आभारी हूँ,धन्यवाद.