About Me

My photo
Greater Noida/ Sitapur, uttar pradesh, India
Editor "LAUHSTAMBH" Published form NCR.

हमारे मित्रगण

विजेट आपके ब्लॉग पर

Sunday, February 19, 2012

{139} रुबाइयाँ

                                             (१)
                     खुद अपने आप से कैंची  को कतरते देखा ,
                     आग को बहते हुए ,  आब को जमते  देखा ,
                      अक्ल की बातें जो समझाते रहे दुनिया को ,
                      गैरत- ए- गार में  उनको भी उतरते  देखा /

                                            (२)
                      हमने  काँटों  को सरे आम  सिसकते  देखा ,
                      संग- ए- दिल छोड़िये पत्थर को पिघलते देखा,
                      वो जो दुनिया को हँसाते थे अपनी बातों से ,
                      उनको तनहाइयों में छुप के सुबकते देखा /

                                            (३)
                     खुदा  की  राह  , गुनाहों को  उभरते  देखा ,
                     रंग गिरगिट सा, आदमी को बदलते देखा ,
                      लोग कहते हैं कि अल्लाह से डरिए लेकिन ,
                      मैंने  इन्सान को, इन्सान से डरते देखा /

                                            (४)
                    बुतों को पुजते , आदमी को तड़पते देखा ,
                    गुनाह फलते , बेगुनाह  को फँसते  देखा ,
                    अज़ीब हाल है , इन्सान की इस दुनिया का ,
                     बादलों को भी  , समंदर  में बरसते देखा /

                                         (५)
                   ज़लाल-ओ-जलवा , हर किसी का उतरते देखा,
                    सरे-कोहसार  को  भी ,  टूट  के  गिरते देखा ,
                   ज़मीन पर हैं जो, उनकी भला बिसात कहाँ,
                    मैंने हर शाम, आफ़ताब  को ढलते  देखा /
              
                                              - एस. एन. शुक्ल


                             

46 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत खूब..

न जाने क्या क्या होता है, इस अलबेली दुनिया में..

Dr.NISHA MAHARANA said...

waah.....bahut hi achchi prastuti.

sumukh bansal said...

badalo ko bhi samjndar me baraste deka..
bhaut khoob sir..

Madhuresh said...

वाह! बहुत खूब.
सारी रुबाइयाँ एक से बढ़कर एक हैं.

सादर

lokendra singh rajput said...

रंग गिरगिट सा आदमी को बदलते देखा। बहुत खूब साहब।

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बेहतरीन रुबाइयाँ

mahendra verma said...

हकीकत से रू-ब-रू करातीं शानदार रुबाइयां।

Kewal Joshi said...

अजीब हाल है, इंसान की इस दुनियां का.
बादलों को भी ,समंदर में बरसते देखा.......

सटीक भाव -- जहाँ जरुरत होती है वहां नहीं...

महाशिवरात्रि की शुभ कामनाएं.

Anita said...

वो जो दुनिया को हँसाते थे अपनी बातों से ,
उनको तनहाइयों में छुप के सुबकते देखा

बहुत खूब ! हर पंक्ति एक गहरा असर छोड़ती है, दिल से निकली प्रभावशाली रचना !

रविकर said...

बहुत सुन्दर पंक्तियाँ |
अद्भुत भाव ||

रंग गिरगिट सा, आदमी को बदलते देखा ,

S.N SHUKLA said...

Pravin pandey ji,
Nisha Maharana ji,
आपकी शुभकामनाओं का बहुत- बहुत आभार.

S.N SHUKLA said...

Sunukh Bansal ji,
Madhuresh ji,
Lokendra singh ji,
आपके ब्लॉग पर आगमन और स्नेह देने का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Monika ji,
Mahendra verma ji,
स्नेह का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

KEVAL JOSHI JI,
RAVIKAR JI,

आपका समर्थन पाकर सार्थक हुयी कलम, धन्यवाद.

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

badlon ko bhee samandar me barste dekha......aadmi ko insaan se darte dekha...aftab ko bhee dhalte dekha...aanand aa gaya...behtarin rachna ke liy sadar badhaye

इमरान अंसारी (عمران انصاری) said...

बहुत ही सुन्दर साड़ी की साड़ी अच्छी हैं ....शुभकामनायें।

Arvind Mishra said...

क्या करें हालात ही कुछ ऐसे हैं -प्रभावशाली रचना

Kailash Sharma said...

वाह! सभी मुक्तक एक से बढ़कर एक और दिल को छू जाते हैं...बधाई

Dr. sandhya tiwari said...

waah bahut khub hai aapki rubaiyan

Suman said...

रुबाईयों से मै पहली बार परिचित हो रही हूँ !
बहुत बढ़िया लगी आभार !

Minakshi Pant said...

वाह बहुत खूब आज पहली बार आपके ब्लॉग में आई पर आकर दिल को सुकून मिल गया |

RITU said...

बहुत सुन्दर ..
kalamdaan.blogspot.in

rajendra sharma'vivek" said...

gahare artho ka samaete rubaaiaa

S.N SHUKLA said...

Ashutosh Misra ji,

आपके ब्लॉग पर आगमन और शुभकामनाओं का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Imaran Ansari ji,
Aravind Misra ji,
Kailash Sharma ji,

आप मित्रों से हमेशा इसी स्नेह की अपेक्षा रही है.

S.N SHUKLA said...

Sandhya Tewari ji,

शुभकामनाएं मिलीं आभारी हूँ इस स्नेह का.

S.N SHUKLA said...

Suman ji,
Meenakshi Pant ji,
Ritu ji,

आपका स्नेह मिला , सार्थक हुआ सृजन, आभार.

S.N SHUKLA said...

Rajendra Sharma ji,
ब्लॉग पर आगमन और शुभकामनाओं का आभारी हूँ.

अनुपमा पाठक said...

बहुत खूब!

Anupama Tripathi said...

lajawab lekhan ...

muskan said...

Shukla Ji,
Thankyou very much for your comment and motivation. i am a starter. i too have a broad collection but scared to be write in blogs because i saw matter can be copied easily. though i read your most poems. a nice collection........
Thanks a lot Shukla ji once again.

Anupama Tripathi said...

कल शनिवार , 25/02/2012 को आपकी पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

धन्यवाद!

Amrita Tanmay said...

सुन्दर रुबाइयाँ |

पुरुषोत्तम पाण्डेय said...

आपकी लेखनी सरल सजग और सुन्दर है. अनेक शुभकामनाएं.

पुरुषोत्तम पाण्डेय said...

आपकी लेखनी सरल सजग और सुन्दर है.अनेक शुभकामनाएं.

Reena Maurya said...

बहूत हि सुंदर रचना है,,
अनुपम भाव संयोजन...
सभी मुक्तक बेहतरीन है...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बेहतरीन रुबाइयाँ।

सादर

S.N SHUKLA said...

Anupama pathak ji,
Anupama Tripathi ji,

कृतज्ञ हूँ आपके इस स्नेह का,
यही स्नेह सदैव प्राप्त होता रहे.

S.N SHUKLA said...

MUSKAN JI,


आपके ब्लॉग पर पधारने और समर्थन प्रदान करने का धन्यवाद.

S.N SHUKLA said...

Amrita Tanmay ji,
Purushottam pandey ji,
आपकी शुभकामनाओं का बहुत - बहुत आभार,
कृतज्ञ हूँ आपके इस स्नेह का.

S.N SHUKLA said...

Reena Maurya ji,
Yashawant Mathur ji,

आप मित्रों का स्नेहाशीष मिला आभारी हूँ.

Ragini said...

बहुत खूब.....एक से बढ़कर एक....

Ragini said...

बहुत खूब.....एक से बढ़कर एक....

S.N SHUKLA said...

Ragini ji,

आपकी स्नेहिल शुभकामनाओं का आभारी हूँ.

tripti said...

bahaut, bahaut pasand aayi

S.N SHUKLA said...

Tripti ji,

आपके ब्लॉग पर आगमन का आभार और शुभकामनाओं का धन्यवाद/