About Me

My photo
Greater Noida/ Sitapur, uttar pradesh, India
Editor "LAUHSTAMBH" Published form NCR.

हमारे मित्रगण

विजेट आपके ब्लॉग पर

Thursday, October 18, 2012

(171) कुछ शेर

                                     खुदा 

ज़न्नत  है  आसमान में , ये तो  पता नहीं ,
दोजख जमीन पर है , इसका इल्म है हमें।

जो आसमान पे है उस खुदा का खौफ क्या ,
खुद को खुदा समझने वाले आदमी से डर।

हमको लगता है, खुदा बन्दों से खुद खाता है खौफ ,
इसलिए  चाहे  जो हो , वह  सामने  आता  नहीं।

कौन  कहता  है  , खुदा   आदमी   ईजाद  है,
आदमी खुद ही खुदा बनाने लगा है आजकल। 

कौन करता है इबादत, सब तिजारत कर रहे ,
हर  इबादतगाह  में , हैं  ख्वाहिशें पसरी  हुई।

मन्नतों को जो इबादत का नाम देते हैं ,
वो सौदेबाज हैं , झूठी है इबादत उनकी।

           -एस .एन .शुक्ल 

38 comments:

Madan Mohan Saxena said...

बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये. मधुर भाव लिये भावुक करती रचना,,,,,,

Anita said...

हर शेर सच्चाई को बयान करता हुआ..आभार!

Kailash Sharma said...

लाज़वाब! सभी शेर बहुत ख़ूबसूरत..

रविकर said...

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

Ramakant Singh said...

गजब के शेर संग्रहणीय नगीने

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत खूब...

कालीपद प्रसाद said...

mannat sudebaji hai,majburi me insan yah karta hai.

Virendra Kumar Sharma said...

"खुदा "हमारे वक्त को आईना दिखलाते शैर .हमारे दौर का तमाम दम्भ ,छल छद्म इस शायरी में मुखर हुआ है पूरे आवेगा के साथ .

कौन करता है इबादत सब तिजारत कर रहे ,

हर इबादत गाह में हैं ख्वाहिशें पसरी हुईं .

सदा said...

वाह ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

सदा said...

वाह ... बेहतरीन

S.N SHUKLA said...

Madan Mohan saxena ji,
Anita ji,
आपकी शुभकामनाओं का आभार.

S.N SHUKLA said...

Kailash sharma ji,
Ravikar ji,

स्नेह मिला आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Ramakant Singh ji,
Pravin pandey ji,

आभारी हूँ इस स्नेह के लिए.

S.N SHUKLA said...

Kalipad Prasad ji,
आपकी शुभकामनाओं का आभारी हूँ .

S.N SHUKLA said...

Virendra kumar sharma ji,

आपके ब्लॉग पर आगमन और स्नेह का आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Sada ji,
आपकी शुभकामनाओं और स्नेह का आभारी हूँ.

Neelima sharrma said...

बहुत खूब.
कौन करता है इबादत सब तिजारत कर रहे ,

हर इबादत गाह में हैं ख्वाहिशें पसरी हुईं .

Madhuresh said...

Bahut hi achhe sher uncle, ek se badhkar ek.. aur sabke sab gahere bhaw liye hue.. 'koun karta hai ibadat' khaaskar zyada achhi lagi..
Saadar,
Madhuresh

India Darpan said...

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


इंडिया दर्पण
की ओर से आभार।

lokendra singh said...

सच कहा- झूठी है उनकी इबादत

S.N SHUKLA said...

Neelima ji,
Madhuresh ji,

आप पधारे, स्नेह मिला , आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

India Darpan,
Lokendra Singh ji,
आपकी शुभकामनाओं का बहुत- बहुत आभार.

प्रेम सरोवर said...

बहुत खूब, शुक्ला जी।

आशा जोगळेकर said...

वाह बहोत खूब एक एक शेर सच्चाई बय़ाँ करता हुआ ।

mridula pradhan said...

har pangti lazabab hai.....

mridula pradhan said...

तेरी भी मैली चादर, मेरी भी मैली चादर,
इस दाग़ से यहाँ पर, कोई बचा नहीं है।
har pangti lazabab.....

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

.

अच्छे शे'र हैं सारे …

बधाई और शुभकामनाएं !

S.N SHUKLA said...

Prem ji,
shubhakaamanaaon kaa aabhaar.

tripti said...

हमको लगता है , खुदा बन्दों से खुद खता है खौफ
इसीलिए चाहे जो हो, वह सामने आता नहीं .... :)

रश्मि प्रभा... said...

हमको लगता है, खुदा बन्दों से खुद खाता है खौफ , इसलिए चाहे जो हो , वह सामने आता नहीं। ...bahut badhiya

S.N SHUKLA said...

Asha ji,
Mridula ji,

स्नेह मिला , आभारी हूँ.

S.N SHUKLA said...

Rajendra ji,
आपकी शुभकामनाओं का आभार.

S.N SHUKLA said...

Tripti ji,
Rashmi ji,
aapake sneh kaa aur shubhakaamanaaon kaa aabhaa .

Naveen Mani Tripathi said...

BAHUT SUNDAR GAJAL

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

हर शेर लाजवाब, वाह !!!!!!!!

प्रेम सरोवर said...

दीपावली की अनंत शुभकामनाएँ!!
नया पोस्ट.. प्रेम सरोवर पर देखें।

Anonymous said...

Achi lekin thodi bekar..
8756046511

Noopur Kothari said...

Khubsoorat!! :)